आज भी बिग बी को पछतावा होता है इन गलतियों का, परिवार का तो कहना है की…

7046

अमिताभ बच्चन यह नाम सिर्फ नाम नहीं है बल्कि हिंदी फिल्म जगत के लिए सबसे भारी भरकम नामो में से एक है क्युकी अमिताभ जी ने हिंदी फिल्म जगत को सितारों से बुलंदिया दी अपने शानदार अभिनय, बेहतरीन डायलॉग डिलीवरी, और अपने अंदाज से भारत ही नहीं बल्कि विदेशो में भी अपनी छाप छोड़ने वाले अमिताभ बच्चन ही है । अमिताभ जी ने हाल ही में एक बड़े खुलासे से अपने फैंस और पूरे बॉलीवुड को अचानक हैरान कर दिया उन्होंने अपने जीवन की पांच सबसे बड़ी गलतियों को याद किया और सभी के सामने साझा किया । अमिताभ बच्चन ना सिर्फ अभिनय में बल्कि दिल के भी अच्छे इंसान है, आज तक बॉलीवुड में आपने उनका कोई विवाद नहीं सूना होगा बल्कि समय समय पर उन्होंने मिडिया से भी दूरी बनाई है ।

उत्तर प्रदेश के है अमिताभ

अमिताभ बच्चन का जन्म उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद जिले में हुआ था। उनके पिता का नाम हरिवंश राय बच्चन था। उनके पिता हिंदी जगत के मशहूर कवि रहे हैं। उनकी मां का नाम तेजी बच्चन था। उनके एक छोटे भाई भी हैं जिनका नाम अजिताभ है। अमिताभ का नाम पहले इंकलाब रखा गया था लेकिन उनके पिता के साथी रहे कवि सुमित्रानंदन पंत के कहने पर उनका नाम अमिताभ रखा गया। जिसके बाद उन्होंने बॉलीवुड में कदम रखा, इसके अलावा 14 बार उन्हें फिल्मफेयर अवार्ड भी मिल चुका है। फिल्मों के साथ साथ वे गायक, निर्माता और टीवी प्रिजेंटर भी रहे हैं। भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री और पद्मभूषण सम्मान से भी नवाजा है।

गलतियों का पछतावा

कभी कभी अपनी गलतिया कुछ इस कदर बढ़ जाती है की हमे इस बात का भी एहसास नहीं होता की उसका भविष्य क्या होगा बाद में हमें ये एहसास होता है की अगर हमसे कोई गलती हुई है तो क्यों और उसके पीछे क्या कारण थे आइये जानते है उसके बारे में ।

फिल्म निशब्द

दरअसल अमिताभ जी के जीवन की सबसे बड़ी गलती थी फिल्म निशब्द यह एक ऐसी फिल्म थी जिसमे अमिताभ ने खुद से करीब 20 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ काफी बोल्ड सीन दिए थे जिसका खामियाजा उनको फैंस के माध्यम से भगतना पड़ा ।

फिल्म बूम में काम करना

दरअसल उनके जीवन की दूसरी भूल हुई बी ग्रेड फिल्म में काम कारण, उनके जीवन में यी सबसे बड़ी गलती हुई काम ना होने की वजह से उन्होंने इस फिल्म में काम किया था मगर इसके बाद आलोचकों के कारण उनको बहुत कुछ झेलना पड़ा ।

राजनीति में आना

वर्ष 1984 में अमिताभ कांग्रेस पार्टी के साथ आये जहा इलाहाबाद में उन्होंने लोकसभा की सीट भी जीती जिसके 3 साल बाद उन्होने बताया की वो राजनीति में नहीं रह सकते क्युकी इस छेत्र में भावनाए नहीं है यहाँ कुछ माहौल ही अलग है ।

मिडिया से बवाल

एक बार उनका मिडिया से ही बवाल हो गया जहा एक पत्रिका ने उनके खिलाफ एक ब्लॉग लिखा जिसमे उनके खिलाफ ऐसी कई बाते की गयी जो उनके लिए सीधी आलोचना थी जिसके बाद अमिताभ बच्चन ने इस पत्रिका को बंद कराने का प्रयास किया लेकिन मामला कुछ उलटा पड़ गया ।