अगर इन गन्दी और बेशरम आदतों को छोड़ दे तो, हर भारतीय गर्व से कहेगा मेरा देश महान।

1647

आज हम आपको भारतीयों की कुछ ऐसी चीजे बताने जा रहे है जो हम कभी नहीं छोड़ सकते बल्कि ऐसे काम करने में हमें गर्व महसूस होता है क्या आप जानते है उनमे से कौन कौन से काम है वैसे तो आपको इस बारे में भी पता है लेकिन दोस्तों आज जो काम हम आपको बताने जा रहे है वो एकदम नए काम है वो काम नहीं है ये जो आप सोच रहे है क्युकी हम अपने दोस्तों के लिए ढूंढते है एकदम नयी और लेटेस्ट खबरे। तो फिर आयी बिना देर लगाए आपको दिखाते है वो 10 काम जो हम भारतीय कभी नहीं छोड़ सकते है ऐसा नहीं है की हम अपने देश की तरक्की नहीं चाहते मगर यह भी सच है ऐसे कामो को करने के लिए कही न कही से शुरुवात करनी होगी और शुरुवात कौन करेगा इस पर ही प्रश्न चिन्ह लगा हुआ है ।

लाइन तोडना

आइये आपको दिल्ली मेट्रो में सफर कराते है ये एक ऐसी मेट्रो है, जहा वो तो लाइन से ही आती है मगर हमारे दिल्लीवासी इसपर लाइन तोड़ के ही चढ़ते है क्युकी हम जहा से खड़े हो जाते लाईन वही से शुरू होती है ।

स्कूल में बच्चो की पिटाई

जी हां बच्चो की पिटाई में भी हमारे भारतीय आगे है क्युकी बच्चो को उनकी गलती पर पीटना हमारे टीचरों का धर्म है ।

खुलेआम पिशाब

आपको बता दे की हम इस काम में तो अपनी शान समझते है जी हां खुलेआम पिशाब करना हमारे संस्कारो को दर्शाता है ।

रिश्वत देना

ये आई बात मुद्दे की जहा लोग रिश्वत जरूर लेते है रिश्वत के बगैर तो यहां एक भी फाईल नहीं बढ़ती।

यहां थूकना मना है

जी हां यहाँ थूकना मना है , मगर लोग अक्सर वही थूकते है जहा ये साफ़ अक्षरों में लिखा होता है ,यहां थूकना मना है क्युकी इसमें हम शान समझते है।

ट्रैफिक सिग्नल तोडना

जी ये बात तो तय है हम कुछ करे या नहीं ट्रैफिक सिग्नल जरूर तोड़ते है ।

शादी में दहेज़ मांगना

हम भारतीय दहेज़ लेना नहीं भूलते क्युकी दहेज़ में ही तो सब कुछ है जनाब।

लड़कियों का करेक्टर जज करना

लड़कियों का करेक्टर तो हम यु ही जज कर लेते है क्युकी लड़कियों के कपडे देखकर हम उनकी पूरी कुंडली तैयार कर देते है ।

ऐतिहासिक स्थलों पर नाम लिखना

जी हां ऐतिहासिक स्थलों पर नाम लिखना तो हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है , इसलिए हम भारतीय इस काम को जरूर से जरूर करते है ।

सार्वजानिक स्थान पर सिगरेट पीना

आपको बता दे की सार्वजनिक स्थान पर सिगरेट पीना भी हमारी शान में चार चाँद लगाता है ।