चाय के साथ गलती से भी ना करे इन चीजों का प्रयोग वरना हो सकता है कैंसर

848

दोस्तों स्वास्थ से जुड़े मुद्दे पर आपको हमसे बेहतर राय कोई अन्य नहीं दे सकता है। वो भी इसलिए क्युकी हम आपको हर प्रकार का समाचार देने का प्रयास करते है। हम कोशिश करते है की आपको हमारी वजह से न किसी प्रकार की दिक्कत का सामना करना पड़े और ना ही किसी प्रकार की कोई दिक्कत हो। दरअसल बात यह है की चाय में निकोटीन होता है सभी को पता है। चाय एक ऐसी ड्रिंक है जो आपको खुद का आदी बना देती है । लेकिन ये भी सही है की हम उसके बिना रह भी नहीं पाते। इसलिए चाय के अलग अलग बहाने बनाते है कभी ये की सर में दर्द हो गया तो कभी कुछ और इसलिए चाय बेहद जरूरी होती है। यही नहीं कभी कभी ऑफिस का माहौल, -तो कभी कोई ऐसी बात जब आपके मन में आपो परेशान करती है तो आप चाय पीकर ही उसको सोल्वे भी करते है।

ट्रेंडिंग में है चाय

आपको बता दे की चाय ट्रेंडिंग में हो चुकी है जब बारिश होती है तो सब मिलकर कहते है क्या आइये चाय पीते है। पजब कोई दो से चार लोग मिलते है तो कहते है की आओ चाय पीते है। जब कभी कोई भी मौका मिलने का मिलता है तो लोग चाय में ही उसका स्वागत करते है।

कभी न पिए सिगरेट

आपको बता दे की चाय के साथ आपको कभी सिगरेट का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्युकी ये आपको नुक्सान पंहुचा सकता है। जी हां इस वजह से आपको कैनर हो सकता है इसलिए जितना हो सके सिगरेट पिने से बचे।

कई नुक़्सानो से बचे

चाय पत्ती, दूध और शक्कर को एक साथ उबालकर चाय नहीं बनाएं। पहले पानी उबालें। फिर चाय पत्ती डालें। आखिर में दूध डालें।
चाय के पानी को एक बार ही उबालना काफी है। तीन मिनट से ज्यादा चाय उबालेंगे तो पानी में ऑक्सीजन की कमी होगी। चाय का टेस्ट खराब होगा।
चाय की पत्ती को हमेशा उबलते पानी में ही डालें। इससे चाय का कलर और फ्लेवर दोनों अच्छा आता है।
आधे घंटे से ज्यादा रखी हुई चाय न पिए। इससे इनडाइजेशन हो सकता है।

लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि जो व्यक्ति जितनी ज्यादा चाय पीता है वह उतना ही अधिक बीमार भी होता है।

चाय जो यूरोप और अमेरिका जैसे देशों में रहने वाले लोगों के लिए सही है किन्तु गर्म देशों में रहने वाले व्यक्तियों के लिए चाय जहर के समान होती है। गर्म देशों में रहने वाले लोगों के पेट में अम्लीय (एसिडिक) की मात्रा पहले ही अधिक होती है. अब चाय के पीते ही यह और अधिक हो जाती है।