महिलाओ ने फीमेल निरोध पर ढाया केहर जहा देखो मेडिकल स्टोर्स पर इसी की है डिमांड!

1617

दरअसल सम्भोग में गर्भ से बचने के लिए निरोध आवश्यक है अब हमारा समाज तो बदल ही रहा है साथ ही साथ लोगो की सोच भी बदल रही है बात यह है की अक्सर मेडिकल स्टोर्स पर जाकर युवक ही निरोध की मांग करता है पिछले एक दशक से से जायद समय हो गया है जब भारत में फीमेल निरोध लांच हो चुका है ऐसे में इसकी बिक्री ने मार्किट में कुछ ख़ास असर नहीं दिखाया, विशषज्ञों की राय में आज तक युवक तो निरोध के प्रयोग से सजग है मगर एक महिला निरोध के प्रयोग से सजग नहीं है जी हां जानकारों की माए तो अस्पताल से लेकर सड़क तक निरोध का प्रचार तो मिलता है मगर किसी दिवार या किसी भी अस्पताल में महिलाओ के निरोध की कोई जानकारी नहीं है वजह है अस्पतालों में जानकारी का आभाव। आइये हम आपको बताते है महिला और पुरुष निरोध में फर्क।

सोच में है बड़ा फर्क

आपको बता दे की पहले तो लोगो को अपनी सोच को बदलना होगा लोगो को यह समझना चाहिए की पुरुष के निरोध का प्रयोग करने से पुरुष की बचत होती है ठीक वैसे ही महिला को भी फीमेल निरोध का प्रयोग करना चाहिए आपको बता दे की यह एक बैग के आकार का होता है जिसके दोनों ओर क्लिप लगी होती है। जिसको महिलाए अपने साइज की तरह प्रयोग करती है।

सरकार ने किया था लांच

हम आपको बताने जा रहे है फीमेल निरोध के बारे में बता दे की इसका लांच कार्यक्रम सरकार के माध्यम से ही हुआ था इसको 7 अप्रैल 2006 में लांच किया गया जिसको वेलवेट ब्रांड के जरिये मार्किट में निकाला गया साथ ही इसके 1 पाक में 3 निरोध हुआ करते थे।

एचआईवी के खतरे को बड़ी मात्रा में कम करता है

आपको बता दे की महिला के फीमेल निरोध प्रयोग करने से सेफ्टी ज्यादा होती है ओर यह गर्भ को 80 से 85 प्रतिशत तक कम कर देती है इसलिए महिलाओ को इसका प्रयोग करना चाहिए।

सफ़ेद ओर गुलाबी रंग के है निरोध

आपको बता दे की महिलाओ के निरोध फीमेल निरोध के नाम से मेडिकल स्टोर पर मिलते है ओर यह सफ़ेद ओर गुलाबी रंग के होते है जिनका प्रयोग आसानी से किया जा सकता है।