क्या कभी प्लास्टिक का अंडा देखा है , पहचानने के लिए जाने ये तरीके

522

दोस्तों आज हम आपको एक बड़ी चूक से बचने का एक तरीका बताने जा रहे है। दरअसल आप और हम सभी ये जानते है की किस प्रकार से चाइनीज अंडो ने मार्किट वैल्यू को खराब कर दिया है। ऐसे में भरतिया बाजारों की विश्वसनीयता भी खराब की है। आज हम आपको अंडो को पेहचाहंने का एक सुलभ तरिका बताने जा रहे है क्युकी इसके बारे में ना तो आपने कभी देखा होगा ना तो आ[ने इस प्रकार के नाडो को पहचानने का तरिका आपको पता ही होगा। ऐसे में बाजार जाने के बाद कभी कभी आपसे ये भूल हो जाती है। की आप चाइनीज अंडो को कैसे पहचाने। आज हम आपको कुछ ऐसा बताने जा रहे है जिसको जानने के बाद आप हैरत में पढ़ जाएंगे।

खास तौर से चीन से आने वाली चीजें

खास तौर से चीन से आने वाली चीजें, जिनमें केमिकल से बने नकली चावल से लेकर लहसुन, अंडा पत्ता गोभी और मछली तक शामिल हैं। लेकिन इनसे बचने का एकमात्र तरीका है, इनकी पहचान। जानिए नकली अंडों को पहचानने के तरीके –

  1. नकली अंडों की पहचान करने का एक आसान तरीका है उसकी चमक। अगर आपको अंडों के छिलके उजले और अधिक चमकदार नजर आएं तो समझ लें कि अंडे नकली हैं, क्योंकि असली अंडों पर ज्यादा चमक नहीं होती।
    यह भी पढ़ें : दूध पीने से पहले मिलाएं शहद, पाएं 5 गजब के फायदे
  2. अपनी अंगुली से अंडों को छुएं, अगर अंडे की ऊपरी परत स्मूद या समतल हो तो यह असली है। नकली अंडों की ऊपरी परत रूखी होती है।

असली अंडे के बराबर लगते है ये

अगर इनकी तुलना असली अंडे से की जाए, तो नकली अंडों का छिलका थोड़ा सख्त होता है। इन्हें हल्के से थपथपाते हैं तो आपको आवाज सुनाई देगी, वह असली अंडे की तुलना में थोड़ी कम करारी होगी। प्लास्टिक एग तोड़कर अगर आप कुछ समय के लिए इसे छोड़ देते हैं, तो धीरे-धीरे इसका सफेद और पीला हिस्सा एक दूसरे के साथ मिल जाएंगे, क्योंकि ये दोनों एक ही पदार्थ से बने हुए हैं।

पूरी तरह नहीं फैलता पीला हिस्सा

इसके अलावा कुछ नकली अंडे पक जाने पर भी पानी में नहीं डूबते हैं। साथ ही साथ इन्हें अगर आप खुले में भी छोड़ देंगे, तब भी इन पर ना कोई चीटियां लगेंगी और ना ही कोई मक्खियां। जब आप किसी असली अंडे को आमलेट बनाने के लिए पैन में डालते हैं, तो इसका पीला हिस्सा पूरी तरह फैलता नहीं है। लेकिन अगर बात करें प्लास्टिक अंडे की, तो बिना छुए ही इसका पीला हिस्सा पूरी तरह फैल जाएगी।

कैसे बनता है प्लास्टिक अंडा

सोडियम अल्जिनेट को गर्म पानी में मिलाकर फिर इस मिश्रण में जलेटिन, ऐलम और बेन्जोइक मिलाया जाता है। इस मिश्रण से नकली अंडा तैयार किया जाता है। अंडे के पीले और सफेद हिस्से दोनों को बनाने में यही मिश्रण इस्तेमाल होता है। पीले हिस्से के लिए बस मिश्रण में थोड़ा पीला रंग मिला दिया जाता है। अंडे का छिलका बनाने के लिए कैल्शियम क्लोराइड का इस्तेमाल किया जाता है।