सुनकर हो जाएंगे हैरान: जयपुर राजघराने का ये परिवार है भगवान श्री राम जी का वंशज?

291

दोस्तों आज हम आपको भगवान श्री राम के बारे में कुछ बातें बताने जा रहे हैं शायद यह बातें आपने इससे पहले कभी भी नहीं सुनी होंगी मगर जो बात हम आपको आज बताने जा रहे हैं वह बात आप ना इससे पहले कभी सुन पाए थे ना अब कभी सुन पाएंगे क्योंकि हम आपके लिए हमेशा ही खास तौर पर कुछ चुनी हुई खबरें लाते हैं जो आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण होती हैं हम हमेशा से ही इस उपेक्षा में लगे रहते हैं कि आपको हमारे द्वारा दी गई समस्त जानकारी सही हो एवं आप के लाभ के लिए हूं दोस्तों आज हम आपको भगवान श्री राम के बचपन से लेकर अब तक के बारे में कुछ बातें बताने जा रहे हैं जी हां जैसा कि आप सभी को पता है कि भगवान श्री राम के साथ श्री लक्ष्मण एवं सीता माता को उनके पिता दशरथ ने 14 साल के वनवास पर भेज दिया था दर्शन माता के कई नहीं चाहती थी कि भगवान श्री राम को अयोध्या का राजपाट मिले वह चाहती थी कि भरत अयोध्या का राजपाट संभाले इस कारण ही उन्हें माता कैकई ने 14 वर्ष के वनवास पर भेज दिया था मगर श्री लक्ष्मण का भगवान श्री राम के प्रति असीम स्नेह एवं माता सीता का पत्नी धर्म उन्हें भी 14 साल के वनवास को झेलना पड़ा ऐसे में आज यह बातें आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण होने वाली हैं क्योंकि हाल ही में भगवान श्री राम के वंशजों के बारे में जानकारी मिली है जो कि खरबों की संपत्ति के मालिक हैं आइए हम आपको उनके बारे में कुछ जानकारी देते हैं।

जयपुर राजघराने में रह रहे हैं वंशज

दोस्तों जानकारों की मानें तो इस समय श्री राम जी अयोध्या पर नहीं राज करते हैं बल्कि यह एक बहुत पुराने वर्षों की बात थी जब यह कहा जाता था कि अयोध्या में राजा राम ने राज किया मगर 14 वर्ष के वनवास के बाद जब वह वापस अयोध्या लौटे तब उनके पिता उनके साथ नहीं थे ऐसे में माता के कई को अपने कर्मों का बहुत बुरा ही फल मिला वह इस बात से असंतुष्ट हुई कि उन्होंने भगवान श्रीराम को इस गद्दी पर विराजमान नहीं होने दिया लेकिन हम आपको यह बताना चाहते हैं कि भगवान श्री राम का वंशज अभी भी उपस्थित है और खरबों की संपत्ति का मालिक है जी हां जानकारों के अनुसार उनके वंशज जयपुर राजघराने में रह रहे हैं आजादी के बाद जयपुर में ही उनका वंशज बड़ी शानो-शौकत के साथ रहता है जहां खरबों की संपत्ति उनके पास है।

अभी नहीं हुआ है खुलासा

दरअसल अभी इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि यह वंशज श्रीराम के ही हैं या कोई और मगर ऐसा देखा गया है कि जयपुर राजघराने में रह रहा है एक परिवार अरबों की संपत्ति का मालिक है जिसमें से कुछ लोग श्रीराम के समय के भी बताए जाते हैं जिन्होंने श्रीराम को वीडियो में सुना है उनकी पीढ़ियों में श्री राम एवं सीता जी का वर्णन है आज हम आपको एक ऐसे ही परिवार के बारे में बताने जा रहे हैं जो खुद को श्री राम के वंशज के रूप में मानते हैं।

अंग्रेजी अखबार में हुआ खुलासा

दोस्तों हम आपको बता दें कि इस बात का खुलासा एक अंग्रेजी अखबार ने किया है जिसमें इस परिवार ने एक इंटरव्यू के दौरान यह कहा कि पद्मिनी देवी मानती हैं कि वह भगवान श्री राम के वंशज में से एक हैं दर्शन महारानी पद्मिनी देवी अक्सर शहर में होने वाले बड़े कार्यक्रमों में चीफ गेस्ट बनकर पहुंचती हैं इंटरव्यू में पद्मिनी देवी ने यह भी बताया कि उनका परिवार राम के बेटे कुश का वंशज है उनके पति और जयपुर के पूर्व महाराज भवानी सिंह उसके 390 वंशज हैं जो कुछ भगवान श्री राम के पुत्र थे यह सभी उनके परिवार के बड़े वंशज हैं जो कि 309 वर्षों से लगातार चलते चले आ रहे हैं।

विचार करने योग्य तथ्य

जब से लोगों के बीच यह बात सामने आई है कि राजस्थान में रहने वाली इस किले की पद्मिनी देवी श्री राम के बेटे कुश के वंशज है तब से ही जो बड़े वैचारिक हैं वह इस बात को सोचने में लग गए हैं कि क्या ऐसा संभव है इसको लेकर इतिहास के कई पन्नों को भी खंगाला जाने का प्रयास किया जा रहा है जिसमें यह पद्मिनी देवी के बारे में कोई भी छोटे से या बड़ा सा जिक्र मिल जाए मगर यह कह पाना तब तक संभव है जब तक पद्मिनी देवी के बारे में कोई ठोस सबूत विचारकों के हाथ में नहीं लगता इस प्रकार से हो सकता है यह एक भयानक खबर भी हो मगर इस बात की पुष्टि करने वाला एक अखबार है जो कि विदेशी अखबार है जिसमें इंटरव्यू के दौरान पद्मिनी देवी ने खुद ही यह सच बताया है।

भविष्य में मिलेंगे परिणाम

इस बात में कोई शक नहीं है कि भगवान श्रीराम ने धरती पर अयोध्या में जन्म लिया साथ ही उनके पद चिन्हों के निशान से लेकर उनके धरती पर कई ऐसे सुराग मिले हैं जिससे यह बात नकारी नहीं जा सकती कि भगवान श्री राम अयोध्या में जन्म में साथ ही उन्होंने 14 वर्ष का जंगल में वनवास काटा क्योंकि उनके नाम पर तीर्थ स्थल भी हैं इसलिए यह न कर पाना बेहद मुश्किल है इसलिए यह मानना भी उतना ही आवश्यक होता है कि रानी पद्मिनी देवी इस देश में भगवान श्री राम की वंशज होंगी।