बलात्कार की घटना नई नहीं है बल्कि इसकी सच्चाई जानकर आपके होश उड़ जाएंगे

588

महिला को हमारे देश में सम्मान दिया जाता है कितना दिया जाता है वो आप जानते है क्युकी रोज ही अखबारों में आप पढ़ते है की कही किसी महिला के साथ रेप की घटना हो गयी, कही किस महिला के साथ अश्लील हरकत तो किसी के साथ छेड़खानी अब देश के लिए यह आम बात है जहा कोई भी कभी भी किसी के साथ भी सम्भोग कर सकता है उस पर किसी की कोई रोक टोक नहीं है। क्युकी हमारे समाज की सोच है की हम महिला को सmbhog के लिए प्रयोग कर सकते है। हैरानी की बात यह है की जो जो इंडस्ट्री महिलाओ की इज्जत करने का पाठ पढ़ाती है वही इंडस्ट्री उनकी इज्जत को तार तार करती है। अब आप खुद ही देख सकते है अगर किसी पुरुष सामग्री का ऐड देना होता है तो उसमे भी किसी महिला को जरूर दिखाया जाता है वो भी कम कपड़ो में।

हर वर्ष बढ़ता है ग्राफ

दरअसल हमारे देश का कानून काफी लचीला है इतना लचीला की जब तक किसी मामले की सुनवाई होती है तब तक किसी न किसी शहर में दो से तीन रेप फिर हो जाते है। मगर हमारे देश में मिडिया के पास काम की कमी नहीं है कुरेद कर जख्मो पर नमक छिड़कने का उन्हें बहाना मिल ही जाता है। अब जीतता जागता उद्धरण देख लीजिये की गुजरात की महिला के साथ रेप हुआ मगर उसको यह सिद्ध करने में 15 साल लग गए की उसके साथ रेप हुआ था।

वेदकाल में भी होती थी ऐसी हरकते

दरअसल ये हमारी भूल है की अब के लोगो की सोच बदल गयी है बल्कि ऐसा नहीं है पहले भी राजा महाराजा मअहिला को सmbhog मात्र की चीज ही समझते थे। कोई राजा कही का सम्राज्य जीतता था तो वहा की रानी से लेकर दासी तक सब राजा की हो जाती थी। इतना ही नहीं देवताओ ने भी महिलाओ को इन्ही कामो के लिए प्रयोग किया।

माधवी

आज हम आपको माधबी की खानी बतायेगे। दरअसल यह खानी बहुत ही कम लोगो को पता है बात यह है की माधवी को यह वरदान प्राप्त था की वो जब भी जन्मेंगी तो सिर्फ पुत्र उनके कभी पुत्री होगी ही नहीं साथ ही हर एक पुत्र को जन्म देने के बाद वो कुवारी हो जाएंगी। मगर ये वरदान उनके लिए श्राप साबित हुआ। उनके पिता से एक ब्राह्मण ने राजा से बिक्शा में 800 सफ़ेद घोड़ो के काले कान मांग लिए मगर वो मुसीबत में पड़ गए की इतने घोड़े मिलेंगे कहा। जिसके बाद उन्होंने परेशां होकर अपनी बेटी को ही गुरुदक्षिणा में दे दिया और कहा इसकी शादी उस से करवा देना जिसके पास 800 घोड़े हो मगर ऐसा कोई नहीं मिला जिसके बाद राजा गुरु और ग्वाले दोनों से अपनी बेटी से सmbhog करवाया। इस कहने से जाहिर है की महिला को केवल सmbhog के लिए ही प्रयोग किया गया।

सीता

माता सिट्टा कही जाने वाली देवी को भी जब रावण ले गया और 14 वर्ष के लिए अपने पास बंदी बना कर रखा तो राजा राम उन्हें वहा से युद्ध कर के लेकर आये जिसके बाद सभी उनके चरित्र पर ऊँगली उठा बैठे जिसको लेकर उन्होंने फॉयर से राज पाठ छोड़ा और सन्यासी का जीवन जिया। इतना ही नहीं जब वो घर से अलग थी तब वो गर्भवती भी थी। फिर भी लोगो ने एक ना मानी उन्हें अग्नि परीक्षा भी देनी पड़ी। अब समझ ही सकते है महिला को कष्ट के अलावा कुछ और नहीं मिला।

द्रौपदी

द्रौपदी की कहानी तो विश्व में प्रसिद्द है जहा पांडव जुए में जब सब हार गए तो उन्होंने द्रौपदी को ही सmbhog के लिए कौरवो के आगे कर दिया। और कहा की आप द्रौपदी को जैसा चाहे प्रयोग कर सकते है।

अहिल्या

अहिल्या की खानी भी कुछ इस प्रकार ही है जब उसको बिन बात की सजा दी गयी हुआ कुछ यु ही वो बेहद खूबसूरत थी। उनके पति ऋषि गौतम थे जो की उनसे प्रेम करते थे। ऋषि होने के कारन उन्होंने कभी उनसे सmbhog नहीं किया । मगर इंद्र देव की नजर उस पर थी वो अहिल्या के सौंदर्य पर मोहित थे और उनके साथ सmbhog चाहते थे। इसलिए उन्होंने छल से ऋषि गौतम का रूप धारण किया और कुटिया में पहुंचकर उनसे सmbhog की बात राखी। अहिल्या भी आष्चर्य से देख कर तैयार हो गयी। मगर ऋषि गौतम ने मौके पर ही अहिल्या को इंद्रा देव के साथ देख लिया जिस से क्रोधित होकर उन्होंने उसको पत्थर की मूर्ति बनने का श्राप दे दिया।

महिलाओ की स्थिति जस की तस

अब आप समझ सकते है की महिलाओ को किस प्रकार की समस्याओ का सामना हमेशा से ही करना पड़ा है। आज भी महिला नहीं बल्कि पुरुष ही गलत है।