अगर आपको भी आता है ज्यादा पसीना, तो जल्द ही सावधान हो जाए

888

पसीने के आना कोई बड़ी बात नहीं है थोड़ा बहुत पसीना तो सबको ही आता है अगर सही मात्रा में आपको पसीना आता है तो यह बहुत ही अच्छी बात होती है लोगो को पसीना किसी भी वक़्त आ सकता है गर्मी के कारण, घबराहट के कारण और भी बहुत साड़ी वजह होती है जिसकी वजह से इंसान को पसीना आता है इंसान अगर बहुत ज्यादा मेहनत मजदूरी करता है तो पसीना आना बहुत ही लाजमी होता है लेकिन अगर हम आपसे पूछे की ये पसीना आता क्यों है हमे तो शायद आपके पास इसका जवाब नहीं होगा लेकिन हम आपको बताएंगे की पसीना आने की आखिर क्या वजह होती है और कितना पसीना हमारे शरीर के लिए सही रहता है।

शरीर में तापमान का असंतुलित होना

हमारे शरीर का तापमान हमेशा एक जैसा नहीं रहता है जब हमारे शरीर का तापमान सामान्य तापमान से अधिक होने लगता है उस समय हमको पसीने आते है और ये तापमान बहुत वजहों से बढ़ता है जैसे अगर हम कसरत कर रहे है या फिर कोई मेहनत भरा काम कर रहे है और सबसे बड़ा कारण ये है की बाहरी तापमान का अधिक हो जाना इससे हमे पसीने आने लग जाते है हमारे शरीर में मौजूद एक्रीन ग्रंथियों के द्वारा पुरे शरीर में पानी छूटना चालू हो जाता है जिससे की हमरे शरीर का तापमान संतुलित बना रहे वरना हमारा शरीर ब्लास्ट भी हो सकता है।

सबसे ज्यादा हमारे शरीर में पसीना कहा आता है

आप लोगो ने देखा होगा कई बार शरीर में से धुआँ निकलता है ऐसा जब होता है जब शरीर में गर्मी का प्रभाव लगातार बना रहे पसीना गर्म होने के कारण भाप बन कर उड़ जाता है हमारे शरीर में कुछ अंग ऐसे भी होते है जहा सबसे ज्यादा पसीना आता है सिर, हाथ और तलवो पर सबसे ज्यादा पसीना आता है।

पसीने में बदबू का होना या न होना

कांख में एपोक्रीन ग्रंथियां नामक ग्रंथि पायी जाती है जो की ज्यादा मात्रा में पसीने को पैदा करती है जब ये पसीने से अंतरकिरया करता है तो पसीने में बदबू पैदा हो जाती है योगा, कसरत करते वक़्त भी एपोक्रीन ग्रंथियां मौजूद होती है लेकिन मेहनत वाले पसीने में बदबू कम पायी जाती है।

हाइपरहाइड्रोसिस से पीड़ित

पसीना आना अच्छी बात है लेकिन ज्यादा आना बहुत दिकत की बात हो सकती है अगर व्यक्ति हाइपरहाइड्रोसिस से पीड़ित है तो उसको ठन्डे में और आराम करते वक़्त भी पसीना आ जाता है ये इसके लक्षण है।

इसका बचाव बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप ए

बोटॉक्स नामक एक दवाई आती है बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप ए का कांख में इस्तेमाल कर सकता है जिससे पसीने की शिकायत से आसानी से बच सकता है ये तेजी से आने वाले पसीने को आसानी से रोक सकता है।