आम तो खाये होंगे आपने लेकिन आम की पत्तियां हैं बहुत लाभकारी, पथरी से लेकर पेट के लिए

1326

आम सभी लोगो का पसंदीदा फल है इसलिए इसे फलो का राजा भी कहा जाता है एक तो खाने में इतना स्वादिस्ट होता है ली लोग बाग़ अपनी उँगलियाँ तक चाट जाते है और अगर आम का सेवन किया जाए तो तो उससे भी बहुत सी बीमारियां दूर हो जाती है लेकिन बहुत ही कम लोग ऐसा जानते होंगे की आम की पत्तियां भी बहुत ही ज्यादा कारगर होती है बहुत सी बिमारियों में आम की पत्तियों में बहुत सारे पदार्थ पाए है जैसे विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, तांबा, पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे खनिज पदार्थ है। आम की पत्तियों में एंटीमिक्राबियल गन भी पाए जाते है। आज हम आपको बताएंगे की आम की पत्तियां कितनी ज्यादा कारगर होती है।

पेट के लिए बहुत जरुरी

आम की पत्तियां पेट के लिए बहुत फायदे मंद होते है पेट से जुडी बहुत सी समस्याओ का इलाज करता है और अगर आपको सारी पेट की समस्या दूर करनी है तो आम की पत्तियां को पानी में उबाल ले रात में और अगली सुबह उस पानी को छान ले और उसे नियमित रूप से पिए आपकी पेट की बहुत सी समस्याएं दूर हो जाएंगी।

पित्त की पथरी के लिए कारगर

अगर किसी को भी पित्त की पथरी की समस्या है तो आप आम की पत्तियों को अच्छे स पीस ले और उसका पॉउडर बना ले और उसे रोज रात को एक गिलास पानी में अच्छे से एक चम्मच मिला ले और उस पानी को कुछ दिन तक पिए इससे आपकी पथरी टूटकर निकल जायेगी और आप बिलकुल सही हो जायेंगे।

कान दर्द गायब

अगर किसी भी व्यक्ति के कान में दर्द हो रहा है तो आपको बस इतना करना है की आम की पत्तियों का रस उस व्यक्ति के कान में डाल दीजिये जिसके दर्द हो रहा है और अगर ज्यादा तेज हो रहा है तो आप उस रस को गर्म करले और फिर कान में डाले कान का दर्द बिलकुल गायब हो जाएगा। हां याद रहे रस को जयादा गर्म न करे।

रक्तचाप को कम करता है

हम आपको बता दे की आम के पत्तो में हाइपोटेंसिव गुण पाया जाता है। आम के पत्ते रक्त वाहिकाओं को मजबूत करता है अगर आप रक्तचाप कम करना चाहते है तो आम की पत्तियों का सेवन करले आपका रक्तचाप बिलकुल कम हो जाएगा।

आम की पत्तियों का उपयोग कैसे किया जाता है

इसके दो प्रकार होते है की आम की पत्तियों का उपयोग कैसे किया जाता है आप आम की पत्तियों को पीस कर उनको सुखाकर उनका पाउडर तैयार कर सकते है और दूसरा उन पत्तियों को उबालकर उसका काढ़ा बना सकते है और आम की पत्तियों का इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवा बनाने में भी काम आता है।